‘2000 के नोट बंद’ होने से भ्रष्टाचार पर लगेगी लगाम, केंद्रीय राज्य मंत्री ने की सरकार के इस फैसले की सराहना

Advertisement

देहरादून: भारत में अब दो हजार रुपये का नोट नहीं चलेगा. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने दो हजार रुपये के नोट को चलन से बाहर करने की शुक्रवार को घोषणा कर दी है. आरबीआई ने क्लीन नोट पॉलिसी के तहत यह फैसला किया है. इस सर्कुलर के तहत नोटों को 30 सितंबर तक बैंक में वापस जामा या बदला जा सकेगा. इस फैसले पर केंद्रीय राज्यमंत्री अजय भट्ट ने बयान देते हुए इस फैसले की सराहना की है.

देखें पूरा वीडियो

सरकार के इस फैसले पर केंद्रीय राज्यमंत्री अजय भट्ट ने बयान दिया है. उन्होंने इसकी सराहना करते हुए कहा कि दो हजार रुपये की नोट बंदी भी केंद्र सरकार का बेहतर कदम है. जिन काला धन रखने वालों ने दो हजार के नोट काले धन के रूप में अपने पास कैद रख लिए थे अब शायद उनकी खैर नहीं. इससे जमाखोरी और भष्टाचार पर लगाम लगेगी. केंद्र सरकार का एक बेहतरीन कदम है. ऐसे साहसिक निर्णय की जितनी प्रशंसा की जाए उतनी कम होगा.

आपको बता दें कि आरबीआई ने शुक्रवार शाम को जारी एक बयान में कहा कि अभी चलन में मौजूद दो हजार रुपये के नोट 30 सितंबर तक वैध मुद्रा बने रहेंगे. इसके साथ ही आरबीआई ने बैंकों से दो हजार रुपये का नोट देने पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने को कहा है. उसने बैंकों से 30 सितंबर तक ये नोट जमा करने एवं बदलने की सुविधा देने को कहा है. बैंकों में जाकर 23 मई से दो हजार रुपये के नोट बदले एवं जमा किए जा सकेंगे. हालांकि, एक बार में सिर्फ 20 हजार रुपये मूल्य के नोट ही बदले जाएंगे.

सोशल ग्रुप्स में समाचार प्राप्त करने के लिए निम्न समूहों को ज्वाइन करे.