उत्तराखंड में CM धामी के प्रयासों से पर्यटन को मिल रही नई उड़ान, अबतक चारधाम यात्रा में पहुंचे लाखों श्रद्धालु

Advertisement

देहरादून: चारधाम यात्रा अब धीरे-धीरे अपने समापन की ओर बढ़ रही है. चारों धामों में करीब 43 लाख से अधिक तीर्थयात्रियों ने दर्शन किये तथा हेमकुंट साहिब लक्ष्मण मंदिर को मिला कर तीर्थयात्रियों की यह संख्या 46 लाख से अधिक पहुंच गई है. वहीं बात की जाए बद्रीनाथ धाम की तो इस साल यहां के कपाट 19 नवंबर शनिवार को शीतकाल के चलते बंद कर दिए जाएंगे.

चारो धामों में से केदारनाथ धाम के कपाट 27 अक्टूबर और यमुनोत्री धाम के कपाट 26 अक्टूबर को गंगोत्री धाम के कपाट बंद हो गए हैं. वहीं दूसरी ओर बद्रीनाथ धाम में श्रद्धालुओं की निरंतर आवाजाही बनी हुई है. रविवार तक यहां 16 लाख 80 हजार 775 श्रद्धालु पहुंच चुके हैं. इतना ही नहीं इनकी संख्या लगातार बढ़ती जा रही है.

बद्रीनाथ धाम यात्रा (साभार-ट्वीटर)

जानिए केदारनाथ पहुंचने वाले श्रद्धालुओं की संख्या

इसी तरह केदारनाथ धाम में इस साल 15 लाख 63 हजार 278 तीर्थ यात्री पहुंचे हैं. यमुनोत्री धाम में 4 लाख 85 हजार 688 और गंगोत्री धाम में 6 लाख 24 हजार 516 तीर्थयात्री पहुंचे. जबकि साल 2019 में केदारनाथ धाम में 10 लाख, यमुनोत्री साढे 5 लाख, गंगोत्री 4 लाख 66 हजार से अधिक तीर्थयात्रियों ने दर्शन किए. हेमकुंट साहिब को मिलाकर यहां कुल 32 लाख तीर्थयात्री पहुंचे थे. वहीं बात की जाए इस साल की तो अब तक चार धाम यात्रा में साढ़े 43 लाख तीर्थयात्री पहुंच चुके हैं. हेमकुंट साहिब को मिलाकर यह संख्या 46 लाख पहुंच गई है जो अभी तक रिकार्ड है.

यमुनोत्री धाम कपाट खुलने की तिथि 3 मई से कपाट बंद होने की तिथि 27 अक्टूबर तक 4 लाख 85 हजार 688 और गंगोत्री धाम कपाट खुलने की तिथि 3 मई से कपाट बंद होने की तिथि 26 अक्टूबर तक 6 लाख 24 हजार 516 तीर्थयात्री गंगोत्री धाम पहुंचे. अभी तक बद्रीनाथ-केदारनाथ पहुंचने वाले कुल तीर्थयात्रियों की संख्या का 32 लाख 44 हजार 53 है.

केदारनाथ धाम (साभार-ट्वीटर)

19 नवंबर तक खुले रहेंगे बद्रीनाथ के कपाट

प्राप्त जानकारी के अनुसार बद्रीनाथ धाम कपाट खुलने की तिथि 8 मई से आज तक 16 लाख 80 हजार 775 तीर्थयात्री धाम पहुंचे हैं. केदारनाथ धाम कपाट खुलने की तिथि 6 मई 27 अक्टूबर कपाट बंद होने तक 15 लाख 63 हजार 278 तीर्थयात्री केदारनाथ पहुंचे. इसमें हेलीकॉप्टर से पहुंचे 1 लाख 51 हजार 795 तीर्थयात्री भी शामिल हैं.

यात्रा पर पड़ रहा मानसून का प्रभाव

इस साल चार धाम यात्रा पर मानसून का काफी प्रभाव देखा गया. इसी के चलते यहां यात्रियों में कमी आई है, लेकिन अब यहां यात्रियों की संख्या दोबारा बढ़ने लगी है. बदरीनाथ धाम में आज मौसम सामान्य है. बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर शिरोबगड़ में राष्ट्रीय राज मार्ग सुचारू है. शिरोबगड़, लामबगड़ और पागलनाला जैसे भूस्खलन जोन आजकल शांत हो गया है. जिसके कारण यात्रा फिर चालू हो गई है.

प्रदेश सरकार, पुलिस-प्रशासन, आपदा प्रबंधन, एसडीआरएफ, उत्तराखंड पर्यटन, बद्री-केदार मंदिर समिति की ओर से यात्रियों से अपील की जा रही है कि मौसम के अलर्ट सहित बारिश-भूस्खलन और सड़कों की स्थिति के अनुसार यात्रा मार्गों पर आगे बढ़े. अधिक बारिश होने पर सुरक्षित स्थानों में रूक जाए और रात्रि के समय यात्रा में सावधानी रखें.

उत्तराखंड सरकार ने यात्रियों की सुविधा-सुरक्षा को देखते हुए तीर्थयात्रियों के पंजीकरण को अनिवार्य किया है. तीर्थयात्री उत्तराखंड पर्यटन की वेबसाइट से घर बैठे ऑनलाइन पंजीकरण के अलावा हरिद्वार ऋषिकेश के अलावा भी चारधाम के सभी फिजीकल रजिस्ट्रेशन काउंटरों पर फोटोमेट्रिक आनलाईन रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं.

बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के मीडिया प्रभारी डॉ. हरीश गौड़ ने उपरोक्त जानकारी देते हुए बताया कि चारधाम तीर्थयात्रियों के आंकड़े बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति/ पुलिस- प्रशासन/ आपदा प्रबंधन / गुरुद्वारा हेमकुंट साहिब प्रबंधन ट्रस्ट के सहयोग से लोकसूचनार्थ और मीडिया तक चारधाम यात्रा संबंधित आंकड़ों की जानकारी पहुंचाने के मद्देनजर जारी किये गये हैं.

सोशल ग्रुप्स में समाचार प्राप्त करने के लिए निम्न समूहों को ज्वाइन करे.